गुमशुदा पर चोरी का आरोप। जीआरपी की प्रताड़ना से परेशान है गुमशुदा के परिजन। - Aapki Awaaz

Breaking

आपकी आवाज़ वेब न्यूज़ पोर्टल व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 94251590730 पर व्हाट्सएप्प करें.....प्रदेश, संभाग, जिला, तहसील और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

गुमशुदा पर चोरी का आरोप। जीआरपी की प्रताड़ना से परेशान है गुमशुदा के परिजन।

दीपक तिवारी/जबलपुर


गुमशुदा पर चोरी का आरोप।जीआरपी की प्रताड़ना से परेशान है गुमशुदा के परिजन।



जबलपुर - वह वर्षों पूर्व खो गया था उसकी सूचना पुलिस को दी गई परंतु पुलिस उसे खोज नहीं पाई। मां-बाप की आंखों के आंसू सूख चुके थे परंतु समस्या विकराल रूप लेकर तब आई जब उस घूमे हुए व्यक्ति पर चोरी का आरोप लगा और उसे ढूंढ भी हुई रेलवे पुलिस खोए हुए व्यक्ति के के घर पहुंच गई।
घटना कुंडम थाने की है जहां रहने वाले पूरन लाल कुशवाहा का पुत्र आज से 17 साल पहले लापता हो गया था। उस समय उसकी रिपोर्ट पुलिस थाने में की गई थी। पूरन लाल कुशवाहा मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण किया करते थे। उनका बड़ा पुत्र प्रदीप कुशवाहा जिसकी उम्र 14 वर्ष थी कुंडम से जबलपुर आया और इसके बाद दोबारा वापस घर नहीं लौटा। उनके द्वारा काफी पुत्र की खोजबीन की गई किंतु उनका पुत्र नहीं मिल पाया। वर्ष 2304 में कुंडल थाने में इसकी रिपोर्ट भी की गई उस रिपोर्ट की पावती आज उनके पास नहीं है। लेकिन उस पुत्र को घूमे हुए 17 वर्ष हो चुके हैं और इस बीच उनका अपने पुत्र से कभी कोई संपर्क नहीं हुआ ना ही उन्हें यह पता है कि उनका पुत्र जीवित भी है अथवा नहीं। अचानक 26/6 /2020 को जीआरपी के पुलिसकर्मी जो गाडरवारा में पदस्थ हैं आर जी ठक्कर और वी डी बैरागी उनके घर आए और उनसे कहा कि तुम्हारा पुत्र प्रदीप कहां है? वह रेलवे में चोरी करके भागा है। जब उन्हें बताया गया कि 2003 में उनका पुत्र गुम चुका था और मिला नहीं उसकी रिपोर्ट कुंडम थाने में की गई है। परंतु उन्होंने उनकी कोई बात नहीं सुनी और पुलिसकर्मी परिजनों से गाली गलौज करने लगे। साथ ही यह भी कहा कि यदि तुम्हारे पुत्र को पेश नहीं किया तो तुम्हारी दूसरे पुत्र विष्णु कुशवाहा को उठाकर ले जाएंगे। इसके बाद से लगातार पुलिसकर्मियों द्वारा पूरन लाल कुशवाहा और उनके परिवार को प्रताड़ित किया जा रहा है। इस घटनाक्रम से व्यथित होकर वह आज एसपी ऑफिस में अपनी पीड़ा लेकर आया है ताकि उसे न्याय मिल सके।

*अपकी आवाज**संपादक**

* 7999057770*