भाई के घर में आग लगाने वाले अभियुक्तगण की जमानत निरस्त* - Aapki Awaaz

Breaking

आपकी आवाज़ वेब न्यूज़ पोर्टल व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 94251590730 पर व्हाट्सएप्प करें.....प्रदेश, संभाग, जिला, तहसील और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

भाई के घर में आग लगाने वाले अभियुक्तगण की जमानत निरस्त*

Vishnu sharma 
Place - ujjain



*भाई के घर में आग लगाने वाले अभियुक्तगण की जमानत निरस्त*


न्यायालय माननीय श्रीमती विधि डागलिया, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी तराना जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा अभियुक्त संजय पिता अम्बाराम, बजे सिंह पिता अम्बाराम, सुनील पिता अम्बाराम सभी निवासी ग्राम बंजारी तहसील तराना जिला उज्जैन के अभियुक्तों का जमानत निरस्त किया गया।
 श्री मुकेश कुमार कुन्हारे ने अभियोजन घटना अनुसार बताया कि दिनांक 15 जुन 2020 को फरियादी बाबुलाल पिता बलदेव गुर्जर निवासी माता मंदिर के पास ग्राम बंजारी मक्सी ने थाना मक्सी पर उपस्थित होकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि हम तीन भाई थे एक छोटा भाई प्रभु की मृत्यु होने से मेरे हिस्से में भाई बॉटे में मकान आया था जिसमें मैने जानवरों के लिये भुॅसा भर रखा था, सुबह करीब 07ः30 बजे की बात है। मेरा भाई अम्बाराम अपने तीनो लडकों सजंय, बजेसिह और सुनील मेरे घर पर आये मुझे मॉ-बहन की गंदी-गंदी गालिया देने लगे। अभियुक्त ने   फरियादी से बोले की इस मकान में तेरा हिस्सा नही है व चारों अभियुक्त मुझे मारने दौडे तथा मकान में तोडफोड कर मकान के अंदर रखे भूसे में अम्बाराम ने आग लगा दी। जिससे भूॅसा व मकान में लगी लकडी भी जल गई। चारों आरोपियो ने जाते-जाते जान से मारने की धमकी दी। फरियादी की रिपार्ट पर थाना मक्सी पर आरोपियो के विरूद्ध प्रथम सूचना रिपोर्ट धारा 436,352, 427,294,506 भादवि में आरोपियो के विरूद्ध रिपोर्ट की गई। तीनों आरोपियो को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया एवं न्यायालय में पेश किया गया।


आरोपियो द्वारा न्यायालय में जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया था, अभियोजन अधिकारी द्वारा जमानत का विरोध करते हुये तर्क किये की अभियुक्तगण ने फरियादी के घर में आग लगाकर गंभीर अपराध कारित किया है। न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर अभियुक्तगण का जमानत आवेदन निरस्त कर उन्हें जेल भेजा गया।   

*आपकी आवाज**संपादक** 7999057770