राम मंदिर के संघर्ष से जुड़े सारे ऐतिहासिक तथ्यों को एक टाइम कैप्सूल में पृथ्वी के 200 फीट भीतर गाड़ा जाएगा ताकि सारी जानकारियां सुरक्षित रह सकें । - Aapki Awaaz

Breaking

आपकी आवाज़ वेब न्यूज़ पोर्टल व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 94251590730 पर व्हाट्सएप्प करें.....प्रदेश, संभाग, जिला, तहसील और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

राम मंदिर के संघर्ष से जुड़े सारे ऐतिहासिक तथ्यों को एक टाइम कैप्सूल में पृथ्वी के 200 फीट भीतर गाड़ा जाएगा ताकि सारी जानकारियां सुरक्षित रह सकें ।

गुणवंत सिंह बघेल

राममंदिर था हाउ और रहेगा आनेवाले दशकों दशक तक इसलिए इस कैप्सूल को धरती में गाड़ा जा रहा है

 जिससे भविष्य में ४००-१००० साल बाद के लोगो को पता चल सके की उनके पूर्वज क्या बोलते थे क्या करते थे और सभी प्रकार की जानकारी इस कैप्सूल में मिलेंगी जिससे उनको अपने इतिहास में जानकारी अच्छी और सच्ची सच्ची मिले - 


राम मंदिर के संघर्ष से जुड़े सारे ऐतिहासिक तथ्यों को एक टाइम कैप्सूल में पृथ्वी के 200 फीट भीतर गाड़ा जाएगा ताकि सारी जानकारियां सुरक्षित रह सकें ।

वर्तमान के तथाकथित सेक्युलर धोखेबाज़ धर्मविरोधी, को नहीं मालूम भारत के प्रधानसेवक श्री नरेंद्र मोदी जी की समझ वहाँ से शुरू होती है जहाँ तुम सेक्युलर धोखेबाज़ों जयचंदो सोचना खत्म करते हो !


टाइम कैप्सूल’ एक बॉक्स होता है, जिसमे वर्तमान समय की जानकारियां भरी होती हैं। देश का नाम, जनसँख्या, धर्म, परंपराएं, वैज्ञानिक अविष्कार की जानकारी इस बॉक्स में डाल दी जाती है। कैप्सूल में कई वस्तुएं, रिकार्डिंग इत्यादि भी डाली जाती है। इसके बाद कैप्सूल को कांक्रीट के आवरण में पैक कर जमीन में बहुत गहराई में गाड़ दिया जाता है। ताकि सैकड़ों-हज़ारों वर्ष बाद जब किसी और सभ्यता को ये कैप्सूल मिले तो वह ये जान सके कि उस प्राचीन काल में मनुष्य कैसे रहता था, कैसी भाषाएं बोलता था। टाइम कैप्सूल की अवधारणा मानव की आदिम इच्छा का ही प्रतिबिंब है। अयोध्या में बनने जा रहे राम मंदिर की नींव में एक टाइम कैप्सूल डाला जाएगा।

पाषाण युग से ही मानव की सोच रही है कि वह भले ही मिट जाए लेकिन उसके कार्यों को आने वाली पीढ़ियां याद रखे। इसी सोच ने मानव को इतिहास लेखन के लिए प्रेरित किया होगा। किसी प्राचीन गुफा की खोज होती है तो उसकी दीवारों पर हज़ारों वर्ष पुराने शैलचित्र पाए जाते हैं। ये भी एक तरह के टाइम कैप्सूल ही है, जो एक ख़ास तरह की स्याही से दीवारों पर उकेरे गए थे।

उनकी स्याही में इतना दम था कि हज़ारों वर्ष पश्चात् की पीढ़ियों को अपनी कहानी पढ़वा सके। भारत के प्राचीन मंदिरों में स्थापित शिलालेखों का उद्देश्य यही था, जो आधुनिक काल में टाइम कैप्सूल बनाने वालों का है। भविष्य की पीढ़ियों को वर्तमान के बारे में बताने की ललक ने टाइम कैप्सूल की अवधारणा को जन्म दिया ।
राम राम सत्य है 


***आपकी आवाज******संपादक******7999057770