ये लोग तानाशाही प्रवृत्ति के है - शहर कांग्रेस अध्यक्ष राधे जायसवाल* - Aapki Awaaz

Breaking

आपकी आवाज़ वेब न्यूज़ पोर्टल व्यूअर से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 94251590730 पर व्हाट्सएप्प करें.....प्रदेश, संभाग, जिला, तहसील और ग्राम स्तर पर संवाददाता की आवश्यकता है

ये लोग तानाशाही प्रवृत्ति के है - शहर कांग्रेस अध्यक्ष राधे जायसवाल*

Vishnu sharma Place  - nagdaDate - 03 July 2020


*ये लोग तानाशाही प्रवृत्ति के है - शहर कांग्रेस अध्यक्ष राधे जायसवाल*  




नागदा जं.। भाजपा नेताओं द्वारा लगातार सोश्यल मिडीया के कार्यकर्ताओ के साथ साथ उनके परिवार को निशाना बनाकर घरो पर हमले कराये जा रहे है। सोश्यल मिडिया के कार्यकर्ता इस भय और आतंक का मुकाबला जान की बाजी लगाकर करते हुए अपने परिवार करते की रक्षा के साथ साथ अभिव्यक्ति कि आजादी के लिये भी संघर्ष करते हुए लोकतंत्र की रक्षा कर रहे हैं।
शहर कांग्रेस अध्यक्ष राधे जायसवाल द्वारा बतलाया कि ये लोग तानाशाही प्रवृत्ति के है। इनके अनैतिक कार्यो का यदि भाजपा कार्यकर्ता भी विरोध करे तो उनके घरों पर भी हमला कराने से ये लोग नहीं चुकते। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण भाजपा के पूर्व मंडल अध्यक्ष अभय चोपड़ा और उनके परिवार पर घर मे घुस कर हमला किया। वही भाजपा कार्यकर्ता आकाश संकत द्वारा एक लड़की के घर में घुसकर हमला किया । सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश दुबे के घर पर फेस बुक पोस्ट को लेकर दो बार हमला किया और कांग्रेस महामंत्री जगदीश मालवीय के घर पर लगातार हमले सहित कई कई कार्यकर्ताओ पर पोस्ट डालने पर झूठे केस बनाये। लेकिन कार्यकर्ताओ द्वारा इनके काले कारनामो का लगातार विरोध किया गया है।
श्री जायसवाल ने आगे बताया कि जिस तरह महिदपुर रोड़ की सिर्फ 7 दिन के लिए लगी अस्थायी शराब का दुकान को हटाने का श्रेय लेने का प्रयास किया। यदि इतने जनहितैषी होते तो अपने कार्यकाल मे प्रकाश नगर सेलिब्रिटी होटल के पीछे, पाल्या रोड़ और जवाहर मार्ग पर काष्ट कला स्कूल के सामने की शराब दुकान का विरोध कर देते तो वह हट जाती और जनता को राहत मिलती।
यहां तक की प्रकाश नगर की पार्षद विनीता कमल शर्मा द्वारा विरोध करने पर उसके साथ मारपीट भी की गई। फिर भी आज दिनांक तक शराब की दुकान नहीं हटी है। लेकिन अपने कार्यकाल मे लगातार मौन रहना भी सांठगांठ का स्पष्ट प्रमाण है।

*आपकी आवाज**संपादक**7999057770*